Home Projects Operational Projects Dehradun Nephrology Centre Project Inaugrated

Open All | Close All

Dehradun Nephrology Centre Project Inaugrated
Hits smaller text tool iconmedium text tool iconlarger text tool icon

nephrodntr

(Photo:  Tribune Dehradun)

On August 7th, 2010 Chief Minister  of Uttarakhand inaugrated Nephro-Dialysis Centre at Deendayal Upadhyay Hospital in Dehradun. Project was awarded to Apollo Hospitals Enterprises Ltd. earlier and contract was signed on February 23, 2010. This facility has been commissioned in 5 months after signing the contract.

 

 

Project Brief

S No

Topic

Description

1

PPP Model

Built Operate & Maintain ( BOT) Model

2

Concession Period

Five (5) years

3

Concession

a)Space measuring 480 sq meters at Coronation Hospital.
b)Government Grant

4

Government Support

a)Space at Coronation Hospital.
b)The government support as per bid outcome.
c) State government shall hand over existing furniture & fixture.

5

Benefit to Government

a)Maximizing service availability
b)Reduction of O&M Cost
c)Free service to BPL patients
d)Transfer of Operational Risk to PPP partner
e)Extended hours of operation compared to government setup

Activities

Description

Build

a)To build a Nephrology Centre at a space measuring 480 sq meters available at Coronation Hospital.

Operation

a)To run the project on Build -Operate-Transfer (BOT) mode.
b)To procure and run thirteen (13) dialysis machines
c)To keep the facility open for patients from 8.00 AM to 6 P.M. (Min)
d)To respond to emergency cases during odd hours also.
e)To dedicate one separate machine each for patients infected with HIV, hepatitis-B and hepatitis-C.
f)To recruit the required personnel including Nephrologists, Technicians, nurses, ward boys and other support staff.
g)To install a suitable database and application software for maintaining patient records.
h)To maintain agreed service levels (99% uptime, 12 hrs operation etc)

User Charges

a)To charge the patients for consumable at least 15% less than the prevailing MRP.
b)To serve the BPL and HIV infected patients free of cost.
c)To maintain records of paying and non paying patients (BPL&HIV infected patients).

Inventory

a)To procure the best quality consumables.
b)To ensure “zero stock out” situation.

Risk

Responsibility

Demand Risk

Private Partner

Price Risk

BPL : Govt. of Uttarakhand

APL : Private Partner

Technological Risk

Private Partner

Performance Risk of old equipments

Private Partner

Service Level commitments

Private Partner

Newspaper Coverage

 

First dialysis centre opens in Uttarakhand
Tribune News Service

Dehradun, August 7
Gleaming rooms equipped with dialysis machines that promise a high degree of precision became a reality today with the inauguration of the first ultra-modern nephro-dialysis centre in Uttarakhand.

Inaugurating the centre at the Deen Dayal Upadhyay Coronation Hospital, Chief Minister Dr Ramesh Pokhriyal Nishank said that the centre, a public-private initiative with Apollo Enterprises Ltd, will usher in corporate management while ensuring that patients living below the poverty line (BPL) are given free treatment.

“Around 16,000 patients are expected to avail the facilities in a year. The government will be spending Rs 1 crore annually on the centre and our private players will be looking after the deployment of staff,” said Dr Nishank.

He said to tackle the manpower crunch in the Health Department, 250 doctors have been appointed by the Union Public Service Commission while 1,000 ayurvedic doctors have also been appointed.

“I am aware of the staff crunch at the Coronation Hospital. Existing vacancies will be filled soon. We are also working to setting up a modern burns and cancer units in Dehradun,” stressed the Chief Minister.

Dr Shree Nagesh, representative of Apollo, expressed happiness at the opportunity to serve in Uttarakhand coming their way.

The services will be free for below poverty line patients (BPL). There are 13 machines, water-cooling centres and a separate room for HIV patients.

The centre will be open 16 hours even on Sundays and holidays. It will be mandatory upon the private party to provide two nephrologists, trained nursing staff (four to six), technicians (minimum three) besides establishing the unit. Dr Vikram Singh will be heading the unit.

A similar arrangement is expected to be replicated at the Haldwani Government Hospital and then, other hospitals as well.

Above poverty line (APL) patients will have to pay Rs 450 as user charges and also pay for consumables if need be, but 15 per cent less than the market retail price.

The private party will be extended financial support by the government for the services rendered charged at the rate Rs 936 per dialysis.

Those present at the inauguration included Secretary Health Dr Umakant Panwar, Dr Sudhanshu Bahuguna, Director Doon Hospital group, DG Health Dr HC Bhatt, Dr RK Pant, CMS, Doon Hospital, and Dr Deepa Sharma, CMS, District Women’s Hospital.

 

 

कोरोनेशन में अब कैंसर यूनिट की बारी
अमर उजाला ब्यूरो
देहरादून। आमजन को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा देने के लिए शनिवार नई शुरुआत हो गई। कोरोनेशन (देहरादून) हास्पिटल में नैफ्रोडायलिसिस सेंटर ने औपचारिक तौर पर काम करना शुरू कर दिया। सीएम रमेश पोखरियाल निशंक ने इसका उद्घाटन करते हुए बहुत जल्द हल्द्वानी में भी ये यूनिट शुरू करने की घोषणा की। सीएम ने दून कोरोनेशन में कैंसर यूनिट जल्द खोलने की घोषणा भी की।
कोरोनेशन हास्पिटल में आयोजित कार्यक्रम में सीएम ने कहा कि सरकार लोगों को अच्छी स्वास्थ्य सेवा देने के लिए प्रयासरत है। उन्होंने ईएमआरआई 108 एंबुलेंस सेवा की फिर तारीफ की। लोगों को पहुंचे लाभ का विस्तार से ब्योरा दिया। उन्होंने कहा कि सचल चिकित्सालयों को जल्द ही आल इंडिया मेडिकल इंस्टीट्यूट से जोड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि हल्द्वानी और हिमालय हास्पिटल में सरकार की मदद से कैंसर यूनिट काम कर रही है। जल्द ही दून में भी ये यूनिट लगाई जाएंगी। इसके अलावा बर्न यूनिट का काम भी तेजी से होगा।
कार्यक्रम में स्वास्थ्य राज्य मंत्री बलवंत सिंह भौर्याल, राजपुर विधायक गणेश जोशी, अपोलो हास्पिटल इंटरप्राइजेज लि. के डा नागेश, सचिव स्वास्थ्य डा उमाकांत पंवार, डीजी हेल्थ डा एचसी भट्ट, अपर सचिव अजय प्रदयोत, स्वास्थ्य सलाहकार डा आईएएस पाल, डा आरसी आर्य, महिला आयोग की अध्यक्ष सुशीला बलूनी, दून ग्रुप हास्पिटल के निदेशक सुधांशु बहुगुणा, सीपी आर्य, केएल आर्य भी मौजूद थे।
नैफ्रोडायलिसिस सेंटर का उद्घाटन हुआ हल्द्वानी में शीघ्र
जल्द ही एम्स से जुड़ेंगे सचल चिकित्सालय : सीएम
करार :
सरकार ने अपोलो हास्पिटल
चेन्नई के साथ पांच साल का करार किया है।
भुगतान :
सरकार 936 रुपये प्रति डायलिसिस केस के
हिसाब से संस्था को भुगतान करेगी।
सुविधा :
नैफ्रोडायलिसिस सेंटर दिन में 16 घंटे काम
करेगा। बाद में इसका समय बढ़ाया जाएगा।

 

 

नेफ्रोडायलिसिस के लिए भटकना नहीं पड़ेगा अब
देहरादून, जागरण संवाददाता:
नेफ्रोडायलिसिस के लिए मरीजों को अब दूसरे प्रदेशों के अस्पतालों पर निर्भर नहीं रहना होगा। यह सुविधा कोरोनेशन अस्पताल में शुरू हो गई है। शनिवार को मुख्यमंत्री डॉ.रमेश पोखरियाल निशंक ने अस्पताल में प्रदेश की पहली नेफ्रोडायलिसिस यूनिट का उद्घाटन किया। तेरह मशीनों से लैस इस यूनिट से प्रत्येक वर्ष सोलह हजार मरीज लाभान्वित होंगे, जबकि प्रतिवर्ष सरकार इस पर एक करोड़ खर्च करेगी। शनिवार को पं.दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल में मुख्यमंत्री डॉ.रमेश पोखरियाल निशंक ने इस यूनिट को जनता को समर्पित करने के मौके पर सीएम ने कहा कि पीपीपी मोड में अपोलो चेन्नई के साथ शुरू की गई इस यूनिट से निश्चित तौर से मरीजों को लाभ मिलेगा। यहां से मरीजों को अब डायलिसिस के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। कुमांऊ मंडल के मरीजों के लिए शीघ्र हल्द्वानी में इस प्रकार की यूनिट स्थापित की जाएगी तथा शीघ्र ही इस चिकित्सालय में कैंसर यूनिट की भी स्थापना की जाएगी। चिकित्सा राज्यमंत्री बलवंत सिंह भौंर्याल ने कहा कि नेफ्रो यूनिट में बीपीएल मरीजों को मुफ्त सुविधा मिलेगी। अपोलो चेन्नई के डॉ.नागेश ने बताया कि सेंटर दिन में सोलह घंटे खुला रहेगा और अवकाशों में भी खुलेगा। सचिव चिकित्सा डॉ.उमाकांत पंवार व विधायक गणेश जोशी ने भी विचार रखे। इस अवसर पर स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ.एचसी भट्ट, महिला आयोग अध्यक्ष सुशीला बलूनी, डॉ.आरसी आर्य, डॉ.आईएस पाल, डॉ.आरसीएस सयाना, दून ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स के निदेशक डॉ.सुधांशु बहुगुणा, सीएमएस डॉ.आरके पंत, डॉ.दीपा शर्मा, डॉ.एएस रावत आदि उपस्थित थे।

 

 

 

 

हल्द्वानी में भी खुलेगी नेफ्रो डायलिसिस यूनिट

 

कोरोनेशन अस्पताल में स्थापित होगी कैंसर यूनिट : डा. निशंक

देहरादून (एसएनबी)। मुख्यमंत्री डा. निशंक ने कहा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय कोरोनेशन की तर्ज पर हल्द्वानी में भी पीपीपी मोड में नेो डायलिसिस की यूनिट खोली जाएगी। राज्य सरकार प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए वचनबद्ध है और इस दिशा में मेडिकल कालेजों की स्थापना की जा रही है। शनिवार को कोरोनेशन अस्पताल में मुख्यमंत्री ने पीपीपी मोड में अपोलो चेन्नई की ओर से स्थापित नेो डायलिसिस सेंटर का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि नेो डायलिसिस सेंटर की स्थापना होने से यहां के मरीजों को अब बाहर नही जाना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि कुमाऊं मण्डल के मरीजों के लिए जल्द ही हल्द्वानी में भी नेो डायलिसिस यूनिट और कोरोनेशन अस्पताल में कैंसर यूनिट की स्थापना की जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में मेडिकल कालेजों की स्थापना की जा रही है। वीरचंद्र सिंह गढ़वाली मेडिकल कालेज में सबसे कम शुल्क पर चिकित्सा शिक्षा उपलब्ध करायी जा रही है। राज्य सरकार अल्मोड़ा मेडिकल कालेज व रुद्रपुर मेडिकल कालेज की स्थापना को प्रयासरत है और इस दिशा में काम भी हो रहा है, जबकि दून मेडिकल कालेज के लिए भी काम जारी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश का पहला नसिग ट्रेनिंग संस्थान बनकर तैयार है और इसी सत्र से शुरू किया जाएगा। प्रदेश के सभी अस्पतालों का आधुनिकीकरण किया जा रहा है, ताकि स्थानीय लोगों को बेहतर चिकित्सा सुविधा मिल सके। साथ ही, दूरस्थ स्थानों की जनता को स्वास्थ्य सुविधा देने के लिए सचल चिकित्सा वाहन संचालित किए जा रहे हंैं। इस दौरान सीएम ने आपातकालीन सेवा 108 की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि इस सेवा से अभी तक 1.71 लाख से अधिक पीड़ितों को सहायता दी जा चुकी है। चिकित्सा राज्यमंत्री बलवंत सिंह भौर्याल ने कहा कि आम व्यक्ति को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध हो, इसके लिए प्रदेश सरकार संकल्पबद्ध है। इस दौरान विधायक गणोश जोशी, डा. उमाकांत पंवार, सुशीला बलूनी, कमलेश सिंघल, डा. एचसी भट्ट, पुनीत मित्तल, गोवर्धन भारद्वाज, डा. आरसी आर्य, डा. आईएस पाल, डा. आरसीएस सयाना भी थे।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Last Updated on Friday, 02 December 2011 16:59